कृष्ण वचन२(२२ -23-24):-

आत्मा पुराने शरीर रूपी वस्त्र को त्यागकर नया शरीर धारण करती है। आत्मा अछेद्य,अक्लेद्य,अदाह्य व अशोष्य है,न इसे शस्त्र काट सकते हैं,न ही वायु सुखा सकती है,न अग्नि जला सकती है,न ही पानी गला सकता है।यह नित्य सनातन,सर्वव्यापी,अचल व स्थिर है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s