भागवद वराह अवतरण#86:-)

  • फालगुन मास, जब पृथ्वी प्रलय के बाद जल में डूब गयी थी।
  • बस ब्रह्मा प्रगट हुए थे।
  •  पार्वती जी के अलावा दक्ष की बहुत सी कन्याऐं थीं।
  • दि ति नामक कन्या व अन्य 13 कन्याओं की शादी योगी कश्यप से हुई थी।। 
  • कश्यप के दि ति के ग 100 साल गर्भ से
  • बाद में हिरण्यकश्यपु व हिरणयाक्ष दो जुड़वाँ भाई हुऐ।
  • दोनों के जन्म समय अशगुन हुए।
  • प्रलय के बाद जब धरती पाताल में रसातल में डूब गयी।
  • अब मनु शतरूपा ने सृजन के लिये जन्म लिया।
  • धरती को निकाल ने के लिये, ब्रह्मा जी कुछ सोच रहे थे, तभी छींक आई।
  • कुछ गिरा व उसने विशालकाय वराह का रूप ले लिया।


  • वो बोले मेरी तो नाक ही फट जाती अगर 1
  • सेकेंड भी देर होती तो। 
  • पानी में से धरती को खोदकर निकाल कर लाते हुए वराह का,  गदा लेकर भटकते हुए, हिरण्याक्ष ने मजाक उडाया। 
  • युद्ध में  सुदर्शन चक्र धारी ने हि रण्याक्ष को मार गिराया। pan>
  • वराह ने युद्ध से हुई कीचड़ में धरती को अथापित कर दिया।   फाल्गुन मास। 
  • होलिका का दहन, होलिका इन दोनों की बहन थी।  

  •  ये है वराह अवतार।


Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s