R. A. –

Advertisements

Who gave the direction????? 

जभ कोई सत्ता में एंट्री करता है तो वह अपने पूरे कुटुम्ब को बड़ी बड़ी पोस्ट देकर,
हर चीज फ्री कर, सैलरी बढाकर कब्जा कर लेता है।
अन्य के छोटे-बड़े काम कराकर खुश करता है।
क्या जो जातिवाद करता है क्या वह हर कास्ट के लिये काम करेगा?
क्या वो पार्टी सही है जो देश के लिये काम न कर अपने
कुटुम्ब के लिए करे?
नोट बंदी के लिये क्या अगर सरकार दोषी है तो बाकी के घरों से धन क्यों मिला?
बौखलाहट क्या?
भारत में तो नयी करेंसी आगयी, वेनैजुएला में तो बंदी होगयी पर नयी भी नहीं आई।
क्या जनता को भडकाकर सत्ता में आना व सारा धन हजमकर जाना????? क्या ये देश
बचा पाएं गे??????
क्या मध्यम या गरीब इस तरह का कोई जॉब करता है कि लाइन में खडे होकर पैसा?????
क्या ये घरवालों की गल्ती नहीं है कि वो खुद घर बैठे हैँ व बीमार को लाइन में भेजा?????
क्या डॉ इतना सब्र नहीं कि वो बिना पैसे के इलाज न करे????
क्या जनता को उस सरकार का साथ नहीं देना चाहिए जो
उसके साथ हरसमय है????????? क्या तबतक कोई कुछ करता है, जबतक चुनाव नहीं आ जाते हैं?????
किसी ने देश की रक्षा के लिये आभीतक कुछ किया था?????
क्या अभी तक जनता से कोई सीधे बोला —-/;
(साथी हाथ बढाना)50दिन का समय देना।।।
पकडे जिनै पर क्या कोई सुनना पसंद करेगा कि अरे, दादा को हम नहीं पैसा पसंद था?????
तभी तो उन्होने देश भी नहीं देखा?????

क्या यही लोग  तो डायरेक्शन नही देते हैंकि हमे किसे चुनना
पर िवार वालों को यि जो हमसबको —- हे?????? 
अगर व्यूज़ सही लगें तो कमेन्ट , शेयर व फॉलो करे….

वास्तु; –

शहर की कॉलानी में वास्तु के एकॉर्डिंग घर बनवाया,
हरवो सामान लगाया
जो फेंगशुई …..
पर नेचर से दूर एसी, एल ईडी,
माइक्रोवेव, सबसे बड़ा पर्दे वाला टीवी, नौकरों की फौज, पानी भी बैड से अटैच्ड टेबल पर।
कार से वॉक,हर मंथ फॉरेन 15डेज़ पर।
क्या ये सब ही तो है, स्टेटस सिम्बल ब्लॉग वाली आंटी के।
पर क्या एक्चुअल पावर ब्लॉग वाले शिवम व देव सी पा वर
भी है या उनके ग्रैंड पेरैंट्स जैसी समझ।  {जो मेरे ब्लॉग (घर-1)} ये कभी नहीं कहते हैं अपने बच्चों से कि
[आइ एम नॉट अ सर्वैंट?]
व ब्लॉग PiPaL जैसे अटल हैं व BaNYaNब्लॉग जैसे पावर फुल।
पसंद आने पर अपने लाइफ में फॉलो करे व स्वस्थ रहें।

                       S-193

Actual Power:-

अपने परैंट्स के साथ देव 6इयर्स व शिवम 4इयर्स के
दो भाई,
जिनके पास केवल एक छोटी सी, 6बाइ8फुट की झोपड़ी,
छत पर टिन की चादर,
एक कॉर्नर में दरवाजा, उसके बगल में एक खिड़की, जिसमें छोटा-सा कूलर,छोटा-सा टीवी,
एक तखत व बाहर एक मिट्टी का चूल्हा।
बस —
और ताकत, शिवम में इतनी, कि एक पंच में तारे नजर आ जाएं।
सारे बच्चे डरते हैं।
हर सीज़न बिना गर्म किये
पानी से नहाना,
जमीन पर ही दिनभर
बैठना।
अपने हर को कार्य कपडे वॉश करना, नहाना बडे ग्लिसरीन के ड्रम को 4फुट ऊंचे ढेर से उतारना आदि को
करना। ये स्टेटस सिम्बल हो न हो बॉडी स्ट्रैंग्थ तो है।
अगर ये लाइफ स्टाइल सही लगे तो फॉलो करें व हैल्दी रहें
क्या स्ट्रैंग्थ चाहिए???????

                        S-193

STATUS SYMBOL:-

शहर की एक कॉलॉनी में हमने मकान लिया।
हम उन्हें जानते ही नहीं थे।
टहलते वक्त मुझे एक सज्जन पार्क में बैठे नजर आते, काफी बीमार से,।
और कोई 1-2 फैमिली और थीं. पूछने पर मालूम हुआ, किब्रेन सर्जरी हुई है।
एक दिन उनकी मिसेज़ से पहचान हुई।
घरले गयीं।
उनका स्टेटस तो देखते ही बनता था।
हर चीज फॉरेन की।
सब वाइट, यहॉं तक कि डायनिंग चेयर्स पर भी वाइट कवर।
घर में 1घंटे के1000/-पर मंथ के हिसाब से सर्वेंट।
सर्वेंट ने मेरे सामने ही झाडू पोंछा बर्तन सब्जी काटकर आटा गूंथकर रख दिया।
माइक्रोवेव मे सब्जी बनाकर ठंडी कर टपरवेयर के बर्तन मे रखकर कर, फ्रीजर में रख दी।
पहले भी सब फ्रिज में थीं।
सब काम नौकर करते हैं,
ये स्टेटस सिम्बल तो हो सकते हैं पर बॉडी हार्मर भी हैं।
डॉ ने कहा है नसें सिकुड़ गयीं थीं। 

आप भी अगर इस लाइफ स्टाइल के आदी हैं तो तुरंत……
नैक्स्ट ब्लॉग 
कैसे-?
S-192

Advertisements