InFeCtIoN:

Do u wanna know, 

हजारों हाथों से गुजरने वाले नोट में26000बैकटीरिया होते हैँ।
क्या आपको
इससे बचना है,
तो स्वाइप कार्ड व डिजिटल
पेमेंट करना 

इंफेक्शन तोइसमें भी होगा

 पर ये केवल एक कार्ड में ही होगा, 

सारी गड्डी में नहीं। 

एक प्लास्टिक कार्ड को हल्के हाथ से क्लीन कर सकते हैं। ्
सीखें क्या आप सीखेंगे?????
तुरंत बताएं.

Advertisements

busy:

अनीश विद्या लय जाने के लिये उठा,रसोई से खाना लेकर, ठंडे टोस्ट खाकर चला गया।
छुट्टी में अमीष घर आया।
नौकर खाना बनाते थे।
मम्मी ने दाल फ्राई व अन्य तरह के खाने बनाए।
खाना अच्छा था,
अचानक अनीश बोला, मम्मी रोज ऐसे ही खाना बना दिया करो।
मम्मी बोलीं हम तो रोज बनाते हैं,
अब तो बेटे ने जो कहा,
हैरान करने वाला था।।।।।।
बेटे का कहना था,
जब मैं सोकर उठता हूं,
मम्मी
जा चुकी होतीं हैं।
जब शाम को आता हूं, मम्मी कोचिंग पढा रही होती है।
खानेवाली खाना बनाकर रख जाती है।
दोनों समय ठंडा खाना खाकर
सो जाता हूं।
कई-कई दिन तो एक ही घर में रहते हुए भी
मम्मी नहीं दिखतीं, नौकर तो सारे
दिखते हैं,
मम्मी नहीं।
लगता है ये मम्मी का नहीं, नौकरों का घरहै,
बेटा ही बोला,
किसने कहा, इतना काम करने को, लगता ही नहीं ये मेरी मां हैं????
खाने की तो बात ही नहीं,
बच्चा ही जब मां को न पहचाने तो क्या फायदा ऐसी कमाई कि?????
अब मां भी मां नहीं लगती है हमै।
कहीं आपके बच्चों के लिए
आप भी तो ऐसे????
आपके ब च्चों को उनकी
मां
क्या आपके घर मेंआप  भी ऐसे ही व्यस्तता ?????

Follow and share it,if you…

© [Reena Kulshreshtha] and [glimpseandmuchmore.wordpress. com], [2017].

Benefit of cashless BHARAT:

1-क्या मॉल वाले जो 99/- के 100/-या डेसीमल के मनी से, एक दिन में कई करोड़ बनाते थे व10पैसे की टॉफी , वो बंद नहीं??????
एडवांस भारत????

 क्या इसमें जनता का पैसा नहीं बचेगा?????
क्या काउन्टिंग का चक्कर फिनिशिं नहीँ ??????
क्या चुनाव प्रचार मे बरबाद धन की बचत नहीँ होगी????
क्या गरीब का हित नहीँ
निहित????????

WHY IS GANGA A HOLi rvr:

बैकुंठ श्रीह रि का घरहै।
इनके चरणों(इन चरणों पे शीश नवाऊं)से गंगा(चरणों से
निकली गंगा प्यारी, जिसने
सारी दुनियां तारी)
निकली हैं।
जो एकबार भी इनका चरण स्पर्श कर लेता है, उसके सारे क्लेश मिट जाते हैं।
ये भागीरथ द्वारा पृथ्वी पर लाई गई, ये अपने अनंत वेग से मचलती हुई चलती है।
इसे सम्हालने के लिये भागीरथ ने शिव का तप किया।
शिव ने अपनी जटाओं में इसे सम्हाला।
(शिव तेरी जटाओं से गंग निकले )
गोमुख पर बर्फ का शिवलिंग है।
कहा जाता है यहाँ सेशि व ने
इसे सम्हालाहै।
तभी इसका जल इतना पावन है
कि सालों साल रखने के बाद भी इसमें कीड़े नहीं पडते हैं।
आज लोग इसे गंदा करते हैं पर अपने ओरिजनल सोर्स पर यह बिल्कुल पावन है।

© [Reena Kulshreshtha] and [glimpseandmuchmore.wordpress. com], [2017].

AnDmAn2:

कभी लगता है
ये डू ब जाएगा।
नालों से शहर में भर दिया समंदर आदमी किधर जाएगा।
विचार तो अच्छा है
हर जगह बस जाने का।
रेत के टीलों में घर
बनाया नहीं करते।
अगर बना भी लिये तो,
तो समंदर शहर में
नालों से खोल
खुद को पानी में
बहाया नहीं करते।
ऐसा नहो मकर संक्रांति
की तरह गंगासागर नहाने जाएं और
क पिल मुनि के आश्रमकी
तरह सालमें एकबार नजर आए।

फिर उसे भी सेव करना पड़ जाए।

© [Reena Kulshreshtha] and [glimpseandmuchmore.wordpress. com], [2017].

WT IS KiTtY?

Is It  a money wastage system? 
Ladies says,

 this is my money,
we keep this money and use
It anytype.
Like purchasing of extra Sadi,sofa,cosmétiques, artificial jwel.,
BENIFITS:-
Do their Houses not look like a musium?
DO THEY NOT look like a makeup bundle?
Do they not waste their money in unknown’s parties?
DO They not wear vulgureclothes?

DOes everyone not laugh at their dresses and activités?
Do they not put many servants?
In the servay,
LABOUR Children says to me always 

Reena Aunt,

why don’u join them? 

I don’t like these kitty. 

they says me always, 
Do These BARA ADAMI not look like fool?
I ask, BUT WHY?
Their ans,

they  spend their money  on servants and show in kitty. 
WHY DO They live with there servants besides parents?
Why do they not do their work themselves,?
AND WHY THEY SAID,I Have bodypain.
When they don’t anytipe of work then HOW? 

NEELESH, RAGHVENDR says me, my parents get up early in the morning,after breakfast,
they go,they work hard.they come back till1pm,
after Lunch they again go on their duties.
and again they come back till 6pm.
They cook  food for me
and taking dinner, they sleep,
We celebrate all festivals with our grand parents,…..
Does rich person not shouting and crying continueously,
-that

do this work.

….