गीतासार,अध्याय-२(31-32):-


क्षत्रिय धर्म में अपने लिए युद्ध से बढ़कर अपने आप मिलने वाला स्वर्ग का द्वार(जब कौरव सुई की नोक के बराबर भी जमीन न दे रहे हो तब) औरकोई नहीं है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s