गीतासार,कृष्ण वचन,अध्याय -२(29- 30):-

हजारों में से कोई एक आत्मा कोआश्चर्य की भाँति देखता है सुनता है,वर्णन करता व कोई एक ही सुनता भी है। पर कोई इसे सुनकर भी नहीं जानता है।यह सबमें अवध्य है,फिर शोक करना व्यर्थ है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s