गीतासार,कृष्ण वचन,अध्याय-२(26 -27):-

अगर आत्मा को सदा जन्मने व मरने वाला मानता है,तब भी शोक उचित नहीं है।क्योंकि जन्म लेने पर मृत्यु निश्चित है व मृत्यु होने पर जन्म अनिवार्य है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s