श्रीमद भगवद्गीता:-

*श्रीमदभगवद गीता
अध्याय-६,
श्लोक-७:-
*मनुष्य को चाहिए कि अपने मन की सहायता से अपना उद्धार करे और अपने को नीचे न गिरने दे।
क्योंकि मन ही बद्धजीव का मित्र भी है और शत्रु भी।


*आहारवेद।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s