कृष्ण. राम#4

#क्या कहूं?
#रामायण गीता तो सभी ने पढी होगी।विष्णु अवता र।
#दोनो ने जीवन जीने का तरीका बताया

#दोनो ने पूरा जीवन संघर्ष व युद्ध किया।
#दोनों को बचपन से धोखा खाया।
दोनों की मां एक से अधिक थीं।।
#दशरथ नेएक से अधिक शादी कीं तो रामायण की रचना हुई।इसीलिये राम एक पत्नी व्रत धारी रहे।
#कृष्ण की मां देवकी ज्यादा लाडली बहिन थी।वराम कैकेयी के ज्यादा लाडले थे।(आवश्यकता से अधिक मिठास ) मधु मेह
करती है।
#दोनों को सगों ने धोखा दिया।&
#दोनों कोगुरूकुल भेजा गया ।
#दोनों कोराक्षसों को मारने के लिए भेजि गया (ीक
िसीपे विश्वास न करें)। वो तो अवतार थे अत:कोई नुकसान नहीं हुआ।
#दोनों ने शादी अपनी पसंद सेकीव एक से ही की।
#कृष्ण दोनों अपने अवतरण पर अपने भाई के साथ गये(बलराम व लक्ष्मण )
#दोनों हमेशा चक्र व तीर रखते थे।
#जंगलों में बीबी ले जाने के दुष्परिणाम
#जगत जननी होने के बाद भी मृग के भ्रम में पडना।
#वेष बदलकर रावण का आना।किसी अनजान के
लिए गेट न खोलना।
#दोनों के ग्रन्थ की धुरी एक स्त्री है।
#दोनों ने हर कार्य कुशलता व
नीति से किया।
#युद्ध के लिये सब पशु पक्षी की सेना बनाई।

#हनुमान पता लगाने गये. सोने की लंका का मुआयना कर, खुद ही निपटा आए, क्योंकि
सोना जितना चमकता है उतनाही पिघलता भी है।

 #24कैरेट कभी ठोसनहीं, द्रव होता है।व आगकी गर्मी सेहु पिघला जाता है।(घर हमेशा ऐसे पदार्थ का हो जिसमे सुरक्षा भी हो।)

#सीताजी को लाए।पहले बहुत लंबी उम्र होती थी। तीन तीन सास, इसलिए सीताजी को बाल्मीकि के आश्रम केबाहर छुडवा दिया, वैसे कहते तोकोई
जाने नहीं देता।
#अश्वमेघ यज्ञ कर प-रिवार को बुला लीया,
पर धोबी के फालतू बोलने के कारण,सीताजी को वापस भैज दिया।
कभी मर्यादा भंग नहीं होने दी।

हर कार्य को नीति से किया।
#यही तो जीवन की सिद्धि है कि नाम में भी शक्ति है।
क्या यह हमें हर किर्य कुशलता व लगन से करने का संदेश नहीं देते है।

.            SANGHATSH24

Advertisements

2 thoughts on “कृष्ण. राम#4”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s