धन

धन तो लक्ष्मी का ही पर्याय है। लक्ष्मी विष्णु जी की पत्नी हैं ।
जो हमेशा विष्णु जी की थकान
मिटाने
के लिए तत्पर, उनके चरण दबाती नजर आती हैं। अगर हम विष्णु रूपी राम, कृष्ण किसी को भी पूजेंगे तो लक्ष्मी अपने आप आएंगी। राम व कृष्ण दोनों एक पत्नी ब्रत धारी हैं।
वो तो कृष्ण ने जिसको भी बचाया, वो उनके साथ, उनकी रासलीला के माया के  कृष्ण थे।
हर रानी के पास उसके अपने कृष्ण 16008रानियों के 16008कृष्ण थे।उनकी पत्नी रुक्मणी। और राधा तो कृष्ण ही थीं।

अगर धन चाहिए तो राम विष्णु या कृष्ण को पूजो। 

अगर मर्यादा चाहिए तोभी और सुखीहोना है तो भी।  क्योंकि राम एक पत्नी ब्रत धारी हैं। 


Advertisements

4 thoughts on “धन”

  1. I struggled to understand but I did something. Of course if Vishnu is the paradise of precious stones And Tama is an avatar descended from him, as I understand what you are trying to say is attachment to money is very bad to live.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s