व्याधि

हमारे चारों तरफ एक बहुत अच्छा सा वातावरण होता है। इसमे सूर्य चांद पेड पौधे मकान घर नदी पहाड़ सडकें पहनावा
व दुकान बाजार विद्यालय व
संस्थान होते हैं।
कुछ हमें पसंद होते हैँ कुछ को हम नापसंद।
बस यहीं से संघर्ष शुरू होता है।जब हम किसी प र
अपनी मर्ज़ी थोपते हैं।बसस यहीं से बीमारी की शुरूआत होती है। देखें अगले आने वाले ब्लॉग ें।में।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s