HINDU, HINDI, HINDUSTAN#118:-)

  • मधु कैथस, गीता मिश्रा,

मथिलेश कुमारी,पाल, इनका अपने क्षेत्र में दबदबा है, 

  • इसलिए क्योंकि इनका कुटुम्ब बहुत बडा है।
  •  सब हर कार्य पर एकत्र होते हैं व खूब मस्ती करते हैं।
  •  मधु -7 बहन 1भाई।
  • मृगांक-7दादाजी

गीता मिश्रा-11 बहनें

पाल -7भाई, 3बहनैं

मिथलेश – 5भाइ6बहनें
सौरव, राज और भी
और भी हैं 

पर जिनमें ज्यादा भाई बहन नहीं हैं वो सबसे डरते व अपने में सिमटे रहते हैं।

कुटुम्ब हमेशा बड़ा होना चाहिए। मृग़, कवी इन सबके कुटुम्ब इतने बड़े हैं कि घर एक किला स लगता है। 

 चोरी का तो कोई सवाल ही नहीं।

 बीच में आंगन व चारों ओर सब बच्चों का एक एक कमरा व एक छोटा सा पूरा घर। व हरेक की अपनी गृहस्थी। बीच का मां बाप का कमरा, सब संग, एक साथ पर खाना सबका अलग,मां बाप को सब देते हैं व हरेक समारोह एक जश्न की तरह।

यही होना भी चाहिए।

ये जहाँ जाते हैं चमन में बहार आ जाती है।

ये सब भी इसी तरह बसते हैं व इनके बच्चे भी।फिर ये किसी भी शहर जाऐं, कोई न घर फोड़ पाता है न ही फोड़ने की सोचता है।आज कुछ हिन्दू ऐसे भी हैं जो एक या दो संतान वाले हैं। वो अपनी सुविधा देखकर, अपने बच्चों को एक असुरक्षा दे रहे हैं। वंश व सुरक्षा की दृष्टि से ये जरूरी है।

अब

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s