Greenaryyy:#27

जबतक सूरज चांद रहेगा, ह रियाली का राज रहेगा?

  • सूर्य के प्रकाश में ही तो पत्तों में क्लोरोफिल बनता है।
  • जिसे सब प्राणी भोजन कहते हैं। 
  •  कुछ इन्हे खाते हैं,जो शाकाहारी हैं।
  • जो शाकाहारी को खाते हैं वो मांसाहारी कहलाते हैं। 
  • जो दोनों को खाते हैं वो सर्वभक्षी कहलाते हैं। 
  • पर खाते तो सब शाक ही हैं। इसलिए क्या ये कोशिश नहीं होनी चाहिए कि अपना घर बनाते समय एक छोटा सा बाग अवश्य रखा जाए? 
  • जहां पर आप अपने जरूरत के सभी फल, शाक व जड़ी-बूटी बिना रासायनिक खाद के कंपोस्ट खाद से ही उगा सकें व 
  • इसके साथ ही डबल टैंक वाला सुलभ शौचालय भी बनाएं, जिससे सालभर बाद,   टैंक भर खाद भी मिले।
  • जब सब अपनेआप सब्जी आदि उगाएंगे तो किसान पर भार नहीं पड़ेगा।
  •  ज्यादा मांग न होने से किसान को दलाल भी नहीं लूट सकेंगे व 20/-की वस्तु2/- में नहीं बेचनी पडेगी। 
  • इससे मंहगाई अपने-आप कम हो जाएगी।
    खाद्य का कचरा खाद बनाने के काम आएगा तो प्रदूषण कम हो जाएगा।
  • <span style=”line-height:24px;font-size:16px;” इसी=”” तो=”” ब्लॉग=”” बसंत=”” है। जब सब कुछ, ताजा स्वादिष्ट भोजन उपलब्ध हो तो घर को ब्लॉग अजायबघर -29, व अजायबघर -30 जैसा क्यूँ बनाना? उपस्=””

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s