राम#3

राम नाम की महिमा तुलसीदास बनकर हीसमझा जा सकता है। इसके लेए रामायण को समझना होगा। 

1-कौशल्या नै प्रभु को वैसेहीअपना बेटा बनने को कहा, जैसे ससब होते हैं वो खडे थै। , भये प्रकट कृपाला, दीन दयाला कौशल्या—-

2-गुरूकुल पढने(संसार को समझने)
3-राजतिलक (चाहे कोई कुछ कहे सगी ही सगी होती है)
4-दशरथ जैसे खुश होकर मुंहमांगा इनाम नहीँ देना।
5-सीता का धरती से प्रकटहोना व धरती में ही समाना(राम की गलती नही है)
6-राम का वनवास जाना(अपने भाई लक्ष्मण के साथ)()किसी )
7-सीताजी का मृगतृष्णा(सोने का मृग)में
8-लक्ष्मण का बाहर निकलने को मना करके जाना
9-रावण का भेष बदलना(किसी को भिक्षा न देना व अनजान के
दरवाजा न खोलें।

10-एक से ज्यादा शादियों में यही होता है। 

11-फल,कंद मूल खाकर भी ताकत बनाए रखना,जो मिले
12-शहरों को नदी के किनारे पर बसाना।

                    SANGHATSH23

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s